Categories
विविध भजन

Ishwar ek hi to hai puja alag alag hoti,ईश्वर एक ही तो है पूजा अलग-अलग होती है,

ईश्वर एक ही तो है पूजा अलग-अलग होती है।

ईश्वर एक ही तो है पूजा अलग-अलग होती है।ईश्वर एक ही तो है पूजा अलग-अलग होती है।

चाहे ब्रह्मा विष्णु को मना लो, चाहे शंकर पर दूध चढ़ा लो क्रिया एक ही तो है,पूजा अलग-अलग होती है।ईश्वर एक ही तो है पूजा अलग-अलग होती है।

चाहे दुर्गा चंडी को मना लो ,चाहे शेरावाली को मना लो। मैया एक ही तो है, पूजा अलग-अलग होती है।ईश्वर एक ही तो है पूजा अलग-अलग होती है।

चाहे गंगा यमुना में नहा लो, चाहे सरयू में डुबकी लगा लो। जल तो एक ही तो है, पूजा अलग-अलग होती है।ईश्वर एक ही तो है पूजा अलग-अलग होती है।

चाहे गीता रामायण पढ़ लो, चाहे वेद पुराण पढ़ लो। ज्ञान एक ही तो है, पूजा अलग-अलग होती है।ईश्वर एक ही तो है पूजा अलग-अलग होती है।

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s